सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Mohabbat Shayari in Hindi - बेस्ट मोहब्बत Poem Poetry in हिंदी


Mohabbat Shayari in Hindi

Mohabbat Shayari in Hindi | Mohabbat Hindi Poetry Hindi | Hindi Mohabbat Poem Latest


कि इश्क का ख्वाब देख रहे हो । नादान हो इश्क का ख्वाब देख रहे हो जो चकनाचूर हो चुका है । इश्क में मैं वो इश्क का टूटा हुआ ख़्वाब हूँ इश्क का ख्वाब देख रहे हो जो चकनाचूर हो चुका है इश्क में मैं वो इश्क का टूटा हुआ ख्वाब हूं और ज्यादा मोहब्बत का ज्ञान मत देना मुझे में इश्क में तुम्हारा भी बापू । हूँ। 

कि जब बात आएगी मोहब्बत की तो खुद को बेवफा तुझको वफादार बता दूंगा । जब बात आएगी मोहब्बत की तो खुद को बेवफा तुझको वफादार बता दूंगा । तू आज भी मुझे मिल जाना मैं बीच चौराहे पर तेरी मांग सजा दूंगा और क्या कह रही हो मेरा रकीब शेर है जंगल का क्या कह रही हो मेरा रकीब शेर है जंगल का औकात पे आ गया तो गले में पट्टा डाल के सर्कल बना दूंगा । 

कि मैं टूट चुका था अंदर से कि मैं टूट चुका था अंदर से । और वो बवाल कर रही थी कि मैं टूट चुका था अंदर से और वो बवाल कर रही थी । एक लड़की एक दिलजले से दिल्लगी का सवाल कर रही थी ।

Mohabbat Shayari in Hindi - मोहब्बत हिंदी शायरी

कि मेरे इश्को में जो दर्द हैं उनकी मीठी बातों में वो बात नहीं कि मेरे इश्को में जो दर्द हैं उनकी मीठी बातों में वह बात नहीं और क्या कहा मेरे जितना चाह लेंगे तुझे उतना ही नमूनों की औकात नहीं ।

की मुंह पे करते हैं भेजती के मुंह पे करते हैं बेज्जती और पीठ पीछे करते हैं बढ़ाई के मुंह पे करते हैं बेज्जती और पीठ पीछे करते हैं बड़ाई और दूसरा कोई कुछ करके तो दिखाएं won the sport कर लेते हैं लड़ाई । 

कि खुदा भी खुश हुआ मेरी खिदमत से कहने लगा दे दूंगा तुझे आसमां धरती के खुदा भी खुश हुआ मेरी खिदमत से कहने लगा जा दे दूंगा तुझे आसमां धरती । मैंने कहा दुनिया की दौलत नहीं चाहिए मुझे बस मेरी जिंदगी से वो दिन निकाल देना जब रखनी हो मेरे घर के बाहर मेरी मां की अर्थी ।

Mohabbat Hindi Poetry Hindi - बेस्ट मोहब्बत Poetry हिंदी

की यारों मैं ये नहीं कहता कि मेरा प्यार दो मुझे यारों मैं ये नहीं कहता कि मेरा प्यार दो मुझे बस उसकी शादी होने से पहले ही मार दो मुझे । 

वो आई और चली गई ये एक थिपाक है । चलो अब मुझे एक सलाह दो । वो आई और चली गई । वो एक थिपाक है चलो अब मुझे सलाह दो । यार इतना मत गिड़गिड़ा उसके बारे में वो नहीं मानेगी । काम करूं समशान में ले के मुझे जिन्दा जला दो ।

तेरे इंतजार को दरवाजे पर टिका रखा है तेरे इंतजार को दरवाजे पर टिकाए रखा है मैंने तेरे हिस्से का हर इतवार बचा बाजार रखा है।

धूप धूल सियासी रातें धूप धूल सियासी रातें तुझे पाने की मंजिल दूर है अभी करके हर बार कोशिश हार जाना मेरा । करके हर बार कोशिश हार जाना मेरा घुट घुट के मरना हर दम । फिर भी जीने की आस है बाकी 

Hindi Mohabbat Poem Latest - मोहब्बत हिंदी Poem

जीयूँ ऐसे जैसे बहता दरिया जियूँ ऐसे जैसे बहता दरिया । ठहरा साहिल जिंदगी रुकती है तो साहिल को धुंधला सा धुआं । जियो ऐसे जैसे बहता दरिया ठहरा साहिल धुंधला सा धुआं मंजर है आँखों में धुंधले धुंधले से मंजर हैं आँखों में धुंधले धुंधले से लेकिन चाहत तो बारिश की आस बाकी है । 

लुत्फ़ उठा लेते हैं हम दर्द को मुस्कुराहट बनाकर लुत्फ़ उठा लेते हैं हम दर्द को मुस्कुराहट बनाकर इश्क तो लबों पर गुरूर से मुस्कुरा रहा है अभी। इश्क तो लबों पर गुरूर सा मुस्कुरा रहा है । अभी चल करते हैं मोहब्बत फिर से थोड़ा सा चेंज करते हैं मोहब्बत फिर से । तो अपना नाम बदल मैं अपनी पहचान । 

चल करते है मोहब्बत फिर से तू अपना नाम बदल मैं अपनी पहचान गलतफहमियों में जीते हैं फिर से गलतफहमियों में जीते हैं । फिर से तू अपना अंदाज बदल मैं अपना आगाज । 

Best Mohabbat Shayari in Hindi - मोहब्बत शायरी हिंदी में

चांदनी रात की शाभो फिर से चांदनी रात की शब्बो फिर से तू अपने अल्फाज बदल मैं अपने एहसास दुनिया से करे बगावत फिर से दुनिया से करे बगावत फिर से तू अपना रंग बदल मैं अपना ईमान।

चल अब उड़ जाते हैं खुले आसमां में फिर से चल अब उड़ जाते हैं खुले आसमां में फिर से तू फिर से अपनी रू बदल मैं बदल लू ये अपनी ये जान ।

उनकी छोटी छोटी बातों को पूरे ध्यान से सुनना । क्योंकि हर छोटी छोटी बातों को पूरे ध्यान से सुनना उनकी कही गई मुझे प्यार भरी एक लाइन को दिन में सौ बार रटना और फिर जब उन से यह कह देने से कि तुम मुझे नहीं समझते तुम मेरे प्यार को नहीं समझते । कहना तो बहुत कुछ ज्यादा ही दिल उनसे पर ये सोचकर कि कहीं उन्हें कुछ दर्द न हो जाए । अक्सर अपने जज्बातों को दिल में ही बसा लिया करती थी हा शायद मैं भी उनसे प्यार करती थी पर वैसा नहीं जिसे वो मुझसे किया करते थे । 

Mohabbat Hindi Poetry Hindi - मोहब्बत Poetry इन हिंदी

और अब उनके प्यार करने का तरीका और कुछ इस कदर हम हमसे प्यार किया करते थे की पास आने तक नहीं देते थे पास आने तक नहीं देते पर दूर भी कहा जाने देते थे । 

वो मानते थे वो मानते थे कि हा माना मैं अक्सर तुमसे रूठ कर चला जाया करता हूँ क्योंकि मुझे तुम्हारा मनाने का तरीका बेहद पसंद है । हा माना मैं तुम्हे अक्सर छोड़कर चला जाया करता हूं क्योंकि मुझे तुम्हारे रोकने का तरीका बेहद पसंद है । 

अक्सर वे बेखयाली में मैं भी तुम्हारा ख्याल किया करता हूँ अक्सर वेखयालों में मैं तुम्हारा खयाल किया करता हूं । जब मेरा भी दिल तुमसे बात करने के लिए तड़पता है लेकिन फिर ये सोचकर कि तुम ही मुझे याद कर लोगे अपने दिल को कहीं और मशहूर कर लेता हूं । हा शायद मैं भी तुमसे प्यार करता हूं पर वैसा नहीं जिसे तुम मुझसे किया करते । 

Hindi Mohabbat Poem Latest - हिंदी मोहब्बत Poem Latest

मुझे भी तुम्हारी फिक्र सताती है मुझे भी तुम्हारी फिक्र सताती है पर मैं फिक्र जाता नहीं पाता हूं मुझे तुम्हारी फिक्र सताती है मैं फिक्र जाता नहीं पाता हूं पर तू मुझसे दिल मत लगा बैठना । पर तुम मुझसे दिल मत लगा बैठना दिलफेंक आशिक हूं मैं तो तुम्हारा टूटी जायगा की ऐसी फिक्र तो मैं सभी के लिए जाताता हूँ ।

पर हो सके तो कभी मुझे छोड़कर मत जाना । पर हो सके तो कभी मुझे छोड़कर मत जाना क्योंकि मुझे तुम्हारी जरुरत है । आखिरकार मुझे ऐसा प्यार करने वाला कहां मिलेगा । हां मैं भी तुमसे प्यार करता हूं पर वैसा नहीं तुम मुझसे किया करते । 

सहमती रख ली तेरी मुझे गैर बताने में अपना । मुझे भी आजकल कोई खैर नहीं लगता । सहमति रख ली तेरी मुझे गैर बताने में अपना मुझे भी आजकल कोई खैर नहीं लगता । तुझे पहचानने से नकार रही आवाम इनकी बातों से ये तेरा शहर नहीं लगता । पर तुझे मारने की हिमाकत करता मैं मगर सुना है तेरे जिस्म को कोई ज़हर नहीं लगता । 

Mohabbat Shayari in Hindi - शायरी for मोहब्बत हिंदी

की सहमति रख ली तेरी मुझे गैर बताने में अपना मुझे भी आजकल कोई खैर नहीं लगता । तुझे पहचानने से नकार रही आवाम इनकी बातों से ये तेरा शहर नहीं लगता और तुझे मारने की हिमाकत करता मैं मगर सुना है तेरे जिस्म को कोई ज़हर नहीं लगता । 

खामोशी का अपना मजा है । लब्ज कोई बैहरा नहीं देखा जाता । तेरी आँखों पर काजल की गिरफ्त तो ठीक थी या आँसुओं का पैहरा नहीं देखा जाता । अपने हिस्से की खुशी या मैं लुटा दूं तुझ पर तेरा उतरा हुआ चेहरा नहीं देखा । 

अब मोहब्बत नहीं तुझसे मैं हर दिन खुद को बस यही समझाती हूं मलाल तो ये हैं सच जानकर भी क्यों अनजान रह जाती हूं 

तो अच्छा तुम्हे प्यार है मुझसे तो अच्छा तो तुम्हें प्यार है मुझसे तो बताओ मोहब्बत में निभा पाएंगे क्या । कुछ बताते थोड़ा अपने बारे में मैं स्वाभिमानी हूं । मैं तुम मेरा आभीमन बन पाएंगे क्या । अच्छा तो तुम्हे प्यार है न मुझसे चलो छोड़ो ये बताओ दिन के दो पल निकाल रोज मेरा हाल पता पूछ पाएंगे क्या । प्यार है तुम्हे मुझसे तो मैं बता दूं कि तुम्हे तोहफे में चॉकलेट टेडी नहीं । मुझे इज्जत और वक्त दे पाओगे । क्या

Mohabbat Hindi Poetry - मोहब्बत हिंदी Poetry 

और महत्वाकांक्षी हूँ मैं महत्वाकांक्षी हूं । मैं तूम मेरा अकंछि बन पाएंगे क्या । अच्छा तुम्हे प्यार है न मुझे तो बताओ मैं नीरू से इश्क कर उसे अपने रंग में रंग जाओगे । क्या थोड़ी अपनी मनवाकर थोड़ी मेरी सुन कर थोड़ी अपनी मनवाकर थोड़ी मेरी सुन कर मुझसे जिंदगी बिताओगे । क्या । 

क्या तुम भी मुझसे बिछड़ कर एक ढलती हुए शाम से हो गए । क्योंकि हमें शाम बहुत खूबसूरत लगती है लेकिन वो हमे अंधेरे की ओर ले जा रही होती है । क्या तुम भी मुझसे बिछड़ कर एक ढलती हुई शाम से हो गए थे यानि दिखने में खूबसूरत और अंधेरे की ओर बढ़ रहे थे । 

क्या तुम्हे भी सब अफ्ताब के तेज रोशनी की तरह आँखों में चुभ रहा था । क्या मेरी कमी से तुम्हारा भी मन मचल रहा था । क्या तुमने कभी लौटने की कोशिश की थी । क्या देख मेरी तस्वीर बीते हुए पलों पर रोशनी की थी । 

Hindi Mohabbat Poem Latest - हिंदी मोहब्बत Poem बेस्ट

आसुओं को छुपाकर नींद न पूरी होने का बहाना बनाकर आंसुओं को छुपाकर नींद न पूरी होने का बहाना बनाकर तिर्गी में हंसी बहाकर क्या तुमने भी मुझे पुकारने की कोशिश की थी कि तुम भी कुछ गुनगुनाते थे बातें हम दोनों की आइने में देख देखकर जाते थे क्या तुम भी मुझसे बिछड़कर ये ढलती हुई शाम से हो गए थे । यानी दिखने में खूबसूरत और अंधेरे की ओर बढ़ रहे थे । 

ज्ञान ही बनना था । तो प्यार क्यों बने आज्ञाकारी बनना था तो प्यार क्यों बनें मेरे असरार मेरे प्यार क्यों बने लक्ष्य तुम्हारे आज भी संभाल रखे हैं तो बस इतना बता मेरे ख्यालों से बिना जाने वाले ख्याल की बने है ।

एक बार तो सोच लिया होता । मुझे रुलाने से पहले एक बार सोच लिया होता मुझे रुलाने से पहले जो आँखें चूमते थे कभी तुम उन्हें इस तरह बिगाड़ने से पहले एक बार तो सोच लिया होता मुझे रुलाने से पहले जो जान जान कह कर पुकारते थे तुम उसी की जान इस कदर निकालने से पहले एक बार तो सोच लिया होता । मुझे रुलाने से पहले ।



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Whatsapp status video download Love | Love Status Video Hindi | Bollywood Status

Heart attack status video | whatsapp status video Download |2020|

breakup status video download in hindi | whatsapp status

Love whatsapp status video download | Sad status 2020

Sad status video download | 2020 | whatsapp status video Hindi